Top
Filmchi
Begin typing your search above and press return to search.

डॉक्टरी की पढ़ाई के लिए मदद मिलने पर छात्र ने सोनू सूद को बताया 'भगवान', तो एक्टर ने मांग ये वादा

दरअसल, बस्ती के सरदार पटेल सत्यांजलि पैरामेडिकल कॉलेज में पढ़ने वाले छात्र यश पाल इस साल अपनी फीस नहीं जमा कर पा रहे थे। यश पाल ने बताया कि उनके पिता एक मजदूर हैं और वह भी मजदूरी करके पढ़ाई कर रहे हैं। हालांकि लॉकडाउन के चलते उनके परिवार की आर्थिक स्थिति बदतर हो गई जिसके बाद वह सोशल मीडिया पर लगातार मदद मांग रहे थे। यश पाल डी फार्मा की पढ़ाई कर रहे हैं और उनकी एक साल की फीस 90,000 है।

डॉक्टरी की पढ़ाई के लिए मदद मिलने पर छात्र ने सोनू सूद को बताया भगवान, तो एक्टर ने मांग ये वादा

Desk EditorBy : Desk Editor

  |  27 Sep 2020 1:11 PM GMT

बस्ती। कोरोना वायरस महामारी के बीच प्रवासी मजूदरों का मसीहा बनकर उभरे ऐक्टर सोनू सूद हर जरुरतमंदों की मदद कर रहे हैं। उन्होंने अपनी दरियादिली से ये साबित कर दिया हैं कि वो रील लाइफ के ही नहीं, बल्कि रियल लाइफ के हीरों है। ट्वीट पर उनसे जो भी मदद की गुहार लगाता है वो आगे बढ़ कर उसकी हर संभव मदद करते हैं। एक बार फिर बॉलीवुड एक्‍टर सोनू सूद ने ऐसा ही दिल जीत लेने वाला काम किया है।

दरअसल, बस्ती के सरदार पटेल सत्यांजलि पैरामेडिकल कॉलेज में पढ़ने वाले छात्र यश पाल इस साल अपनी फीस नहीं जमा कर पा रहे थे। यश पाल ने बताया कि उनके पिता एक मजदूर हैं और वह भी मजदूरी करके पढ़ाई कर रहे हैं। हालांकि लॉकडाउन के चलते उनके परिवार की आर्थिक स्थिति बदतर हो गई जिसके बाद वह सोशल मीडिया पर लगातार मदद मांग रहे थे। यश पाल डी फार्मा की पढ़ाई कर रहे हैं और उनकी एक साल की फीस 90,000 है।

उनकी पूरी फीस ऐक्टर सोनू सूद ने जमा की है। साथ ही सोनू सूद ने स्टूडेंट से गरीबों के मुफ्त इलाज का वादा भी ले लिया। छात्र ने सोनू सूद का आभार जताते हुए कहा, 'मेडिकल कॉलेज में पढ़ेंगे हम, आप मेरे भगवान है सर, आफने मेरी फीस जमा करके मेरी जिंदगी का सफर सुनहरा कर दिया।' इस पर सोनू सूद ने भी छात्र से एक वादा मांग लिया। सोनू सूद ने लिखा, 'डॉक्टर बन कर गरीबों का इलाज अब आपको हमेशा फ्री में करना है। बस यही वादा चाहिए।'

बता दें कि सोशल मीडिया के माध्यम से सोनू सूद अपने फैंस से जुड़े हुए हैं और उनकी हरसंभव मदद की कोशिश कर रहे हैं। वे अपने फैंस की आपबीती सुनते हैं। कभी किसी छात्र की फीस जमा कर देते हैं तो किसी बच्चे को किताब तोहफे में देते हैं।

Next Story