Top
Filmchi
Begin typing your search above and press return to search.

अनुराग कश्यप पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली पायल घोष थाम सकती है इस बड़ी पार्टी का हाथ

अनुराग कश्यप ने इस मुद्दे पर कई सारे ट्वीट किए थे। उन्होंने ट्वीट में लिखा था, "क्या बात है, इतना समय ले लिया मुझे चुप करवाने की कोशिश में। चलो कोई नहीं। मुझे चुप कराते कराते इतना झूठ बोल गए कि औरत होते हुए दूसरी औरतों को भी संग घसीट लिया। थोड़ी तो मर्यादा रखिए मैडम। बस यही कहूंगा कि जो भी आरोप हैं आपके सब बेबुनियाद है।

अनुराग कश्यप पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली पायल घोष थाम सकती है इस बड़ी पार्टी का हाथ

Desk EditorBy : Desk Editor

  |  26 Oct 2020 1:33 PM GMT

वर्ली: इस वक्त की बड़ी खबर मुंबई से आ रही है। फिल्म निर्देशक अनुराग कश्यप पर कथित यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली बॉलीवुड एक्ट्रेस पायल घोष रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आरपीआई) में शामिल होने वाली हैं।

उनके साथ वकील भी पार्टी को ज्वाइन करेंगे। हालांकि इसकी आधिकारिक पुष्टि अभी तक नहीं हो पाई है। अभी तक सूत्रों के माध्यम से जितनी जानकारी निकलकर बाहर आ पाई है। उसके मुताबिक पायल घोष को आरपीआई की महिला मोर्चा के उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है। वहीं उनके वकील को भी एडवोकेट विंग में प्रदेश उपाध्यक्ष बनाने की चर्चा हैं।

बता दें कि पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर यौन उत्पीड़न आरोप लगाया था। इस मामले में उन्होंने मुंबई के ओशिवारा पुलिस स्टेशन में अनुराग के खिलाफ केस भी दर्ज कराया था। लेकिन अनुराग शुरू से ही पायल के आरोपों को सिरे से ख़ारिज करते आ रहे हैं।

पायल घोष की मदद के लिए आगे आये थे अठावले

गौरतलब है की केंद्रीय सामाजिक न्याय मंत्री और आरपीआई अध्यक्ष रामदास अठावले ने पायल घोष के आरोप लगाने के बाद अनुराग प्रकरण में उनकी मदद की थी। उन्होंने पायल से मुलाकात भी की थी। वे अपने साथ पायल को महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात कराने के लिए भी ले गये थे। इस दौरान पायल ने अपनी जान का खतरा बताते हुए सुरक्षा और न्याय की मांग की थी।

पायल घोष ने कुछ समय पहले अनुराग कश्यप पर आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर ट्वीट लिखा था। उन्होंने कहा था कि अनुराग ने साल 2015 में उनके साथ यौन शोषण किया। इसके बाद पायल ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई। पायल का कहना था कि अनुराग को गिरफ्तार किया जाना चाहिए। उन्होंने इसके लिए अनशन की धमकी भी दी थी।

Next Story